पति-पत्नी में कलह निवारण हेतु उपाय

[Total: 12    Average: 5/5]

पति-पत्नी में कलह निवारण हेतु उपाय

जीवन मे हर एक रिश्ते के अपने अलग मायने होते है। अब वो रिश्ता चाहे भाई-बहन का हो, माँ-पिता के साथ हो, सास-बहू का हो- या कैसा भी क्यूँ न हो, हर रिश्ता खास होता है। रोजमरा की जरूरत को पूरा करने के अलावा इंसान के जीवन मे सबसे अहम बात जो होती है, वो है रिश्तों को संभाल के रखना, उनमे दरार न आने देना। आखिरकार एक परिवार ही तो होता है, जो भावनात्मक तौर पर हमे संभाले रखता है। इनही बीच मे अगर हम बात करे पति-पत्नी के रिश्तों की तो कहना गलत नहीं होगा की दोनों का जीवन किस तरह आपस मे जुड़ा होता है। जीवन भर एक दूसरे का साथ निभाने के वचन से जब दो लोग आपस मे जुडते है, तो उनकी आंखों मे सिर्फ एक सुनहेरी ज़िंदगी के सपने चमक रहे होते है। पर वही दूसरी और ये भी देखा गया है कि किस तरह कई बार ये रिश्ता गंभीर समस्यों मे घिर जाता है। पति-पत्नी के बीच नोक-झोक व विचारों का आपस मे न मिलना जीवन को कष्टों से भर देता है।

पति-पत्नी में कलह निवारण हेतु उपाय
पति-पत्नी में कलह निवारण हेतु उपाय

तो कही अगर आपके जीवन मे भी मिलती-जुलती समस्या है या पार्टनर के साथ अन-बन खतम होने का नाम नहीं लेती। हलाकी इसके लिए आप कई प्रयास भी करके देख चुके है, तो हम आपकी मदद करते हुए कुछ ऐसे टोटको से आपको परिचित करवाना चाहते है, जिन उपाय को करके आप अपने जीवन-साथी के साथ रिश्तों को सुधार सकते है। पति-पत्नी के बीच होने वाले लड़ाई-झगड़ों को समाज मे बेहद आम समस्या माना जाता है, पर न जाने आम नज़र आने वाली बात कब गंभीर रूप धारण करले, कुछ कहा नहीं जा सकता। पर इससे पहले अन-बन हद से ज्यादा बड़े, आप ये उपाय कर सकती है कि स्त्री अपने पति के तकिए के नीचे सिंदूर की पूड़ीय रख दे और अगली सुबह उठकर पति आधा सिंदूर घर मे कही गिरा दे और आधा पत्नी की मांग मे भर दे। इसी तरह पति भी अपनी पत्नी के तकिए के नीचे कपूर रख सकता है और अगली सुबह उसे घर के बाहर जला दे। इस उपाय को आप किसी भी शुक्ल पक्ष के समय सोमवार से रविवार के दिन कर सकते है। एक बात ऐसी भी कही गई है कि गेंदे के फूल पर अगर सिंदूर लगाकर किसी भगवान की प्रतिमा के सामने चड़ा देते है, तो इससे भी पति-पत्नी के बीच रिश्ते मे शांति आती है और अन-बन कम होता है।

कई बार देखा गया है की पति-पत्नी झगड़ों को सुलझाने की पूरी कोशिश भी करते है। रिश्ता न टूटे इसके लिए घरवालों से राय-विचार लेने के अलावा कई बार को experts के पास भी जाते है। इसका मतलब साफ होता है की वो अपने रिश्ते की अहमियत को समझते है। अब ऐसे मे हम आपको एक ऐसा मंत्र बताते है जिसके जाप से यकीनन आपके रिश्ते मे शांति आएगी। “ओम् नम: संभवाय च मयो भवाय च नम: शंकराय च मयस्कराय च नम: शिवाय च शिवतराय च।।“ – इस मंत्र का जाप करने से पहले जरूरी है की आप सूर्योदय से पहले स्नान करके, पास के मंदिर मे जाकर शिवलिंग पर जल चड़ाते हुए मंत्र जाप करे। “हं हनुमंते नम:”- ये एक और मंत्र है, जिसका जाप आप कर सकते है। इस उपाय के अंतर्गत आप एक पत्र के ऊपर लाल श्याही से पति का नाम लिख दे, फिर 21 बार बताए मंत्र का जाप करके उस पत्र को घर मे किसी कोने रख दे। इसके बाद आप पति के साथ रिश्ते को सुधरते हुए देख सकेंगी। अगर आपको ऊपर बताए उपाय मे से कुछ उचित लगे तो अवश्य प्रयास कर सकते है और अगर कुछ समझ न आए तो उम्मीद करते है कि आप पति-पत्नी बुधवार के दिन 2 घंटे का मौन-व्रत रखकर वाक् युद्ध को आराम दे सकते है। ये कोशिश गृह शांति की दिशा मे एक अच्छी कोशिश भी रहेगी।

मंत्र के अलावा भी अन्य उपाय है जैसे कि शुक्रवार के दिन पति अपनी पत्नी को एक सुन्दर व सुगन्ध वाला फूल दे, साथ ही चाँदी की कटोरी चम्मच से शक्कर-दही उसे खिलाऐं। ऐसा करने से पति-पत्नी के बीच होने वाले अनबन का निवारण होगा। पति-पत्नी का रिश्ता उनके घर-परिवार की स्थिति को भी कही—कही बयान करता है। ऐसे मे अगर आप भी कही गृह-कलेश की समस्या से गुज़र रहे है, तो उम्मीद है जो उपाय आपको बताया जाएगा उससे आपको मदद मिलेगी। गृह-कलेश के उपाय के लिए कुछ बाते बेहद आम है, पर उनका ध्यान रखना काफी जरूरी हो जाता है। याद रहे रात को सोते वक़्त आप पूर्व की ओर सिर करके सोये। इससे positive energy मिलती है और शरीर मे तनाव कम होता है और आप बेहतर तरीके से सोच पाते है। इसके अलावा सकारात्मक सोच के साथ अगर आप कोई स्त्री नियमित रूप से 11 मंगलवार, हनुमान मंदिर में जाकर चोला चढाएं एवं सिंदूर चढाएं तो भी गृह-कलेश की समस्या खतम होती है।

इसके अलावा आप चाहे तो नियमित 40 दिन तक, चीटियों के बिल के पास जाकर वहाँ शक्कर या आटा रख सकते है। माना गया है की चीटियों को ये देने से गृहस्थ जीवन की समस्याओं का निवारण होता है। गृह क्लेश दूर करने के लिए एक और उपाय ये है कि आप रात को सोने से पहले अपने बिस्तर के नीचे एक लोटे या किसी पात्र मे पानी भरकर रख ले। अगली सुबह उठने के साथ फिर आप उस पात्र को लेकर घर के बाहर जाये और बाहर जल को छिड़क दे। बिना संदेह के ये एक आसान तरीका है, जिसको आजमाने व नियमित रूप से करने के बाद आप अपने घर के महोल मे काफी बदलाव पाएंगे। सुख-शांति के अलावा आप महसूस कर सकेंगे की कलेश का वातावरण कम होने लगा है।

इंसान के जीवन मे खुशी हो, पति-पत्नी का रिश्ता मजबूत बना रहे व सबके घरों मे सुख-शांति का महोल बना रहे, इनही मुद्दों को अपना लक्ष्य बनाकर उम्मीद करते है ऊपर बताए गए उपायों से आपको मदद मिले व आपका जीवन भी खुशियों भरा हो।