पतिव्रता पत्नी योग

[Total: 1    Average: 5/5]

पतिव्रता पत्नी योग

पतिव्रता पत्नी योग, दोस्तों आज हम आपको कुंडली में सुन्दर पत्नी के योग और पत्नी से धन योग के बारे मे बतायेगे। हम आपको ये भी बतायेगे की कुंडली से स्त्री का चरित्र कैसे जाने?

एक आदमी के जन्म के बाद, शादी को उसके जीवन की दूसरी सबसे बड़ी घटना माना जाता है। शादी के बाद जीवन में सब कुछ बदल जाता है। हर कोई, चाहे वह पुरुष हो या महिला, अपने जीवनसाथी का चरित्र बहुत अच्छा चाहता है। वह चाहता हैं कि उसे एक पतिव्रता पत्नी मिले जो उसके अलावा अन्य पुरुष के बारे में स्वप्न में भी विचार न करे|

पतिव्रता पत्नी योग
पतिव्रता पत्नी योग

हालाँकि, जीवन इतना सरल नहीं है। जीवन में, हमारी इच्छा के अनुसार या जैसा हम चाहते हैं वैसा ही सब कुछ घटित हो ऐसा जरूरी नहीं हैं|कई बार ऐसा देखने को मिलता  है कि लोग बहुत ही योजनाबद्ध तरीके से शादी करते हैं लेकिन शादी के बाद उन्हें पछतावा होता है कि उन्होंने शादी क्यो की|हमारे इस समस्या का समाधान हमें ज्योतिषशास्त्र में मिल सकता हैं|

अब हमारे समक्ष यह प्रश्न हैं कि “भविष्य के जीवन साथी के चरित्र की भविष्यवाणी में ज्योतिषीय कुंडली कैसे मदद करती है”? इस विषय पर ज्योतिषशास्त्र बहुत स्पष्ट है। आइये कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओं कि मदद से हम इस बात को समझने का प्रयत्न करते हैं:-

  • ज्योतिष के अनुसार, कुंडली में पहला स्थान व्यक्ति के स्वयं के व्यक्तित्व का प्रतिनिधित्व करता है और सातवां स्थान जीवन साथी का है।सातवें घर में चंद्रमा की उपस्थिति से पता चलता है कि आपके जीवनसाथी का अन्य के साथ भीसंबंध होंगे।
  • पुरुष की कुंडली में शुक्र ग्रह उसकी पत्नी का कारक होता है जबकि स्त्री की कुंडली में बृहस्पति उसके पति का कारक होता है।इसी तरह, यदि मंगल सातवें घर में है, तो यह काफी संभव है कि आपकी पत्नी का चरित्र सही नहीं होगा|
  • बृहस्पति जीवन साथी के चरित्र को अच्छा बनाता है। कुंडली में, यदि बृहस्पति की दृष्टि आरोही पर है, दूसरे शब्दों में, बृहस्पति पांचवें, सातवें या नौवें स्थान पर है तो जीवन साथी का चरित्र बहुत अच्छा रहता है, भले ही आरोही में मंगल हो । हम कह सकते हैं कि केवल बृहस्पति की दृष्टि ही व्यक्ति को संस्कारी बनाने के लिए पर्याप्त है।
  • कुंडली के छठे, आठवें और बारहवें भावों के स्वामी ग्रहों का प्रभाव सप्तम भाव पर नहीं होना चाहिए। ज्योतिषीय कुंडली के सातवें स्थान पर प्रत्येक और हर राशि की उपस्थिति और ग्रहों का महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है।

कुंडली में सुन्दर पत्नी के योग

कुंडली में सुन्दर पत्नी के योग, हर पुरुष चाहता है कि उसकी पत्नी सुंदर, आकर्षक, प्यारी और अच्छी स्वभाव की हो। किसी महिला की सुंदरता और व्यक्तित्व को चंद्रमा, शुक्र और मंगल के माध्यम से जाना जाता है। इन ग्रहों की स्थिति के माध्यम से एक महिला के व्यवहार, स्वभाव और गुणों का भी विश्लेषण किया जाता है।

ज्योतिषशास्त्र में सुंदरता और कोमलता से संबंधित कोई भी चीज हमेशा इन ही तीनों ग्रहों से जुड़ी होती है|ये तीनों ग्रह बहुत मधुर और कोमल हैं। जीवनसाथी का योग हमेशा 7 वें घर और शुक्र द्वारा इंगित किया जाता है।

इसलिए, जब शुक्र 7 वें घर में आता है तो एक सुंदर जीवनसाथी का संकेत देता है, लेकिन इसकी हमेशा गारंटी नहीं होती है। आइये हम यह जानने का प्रयास करते हैं कि सुंदर पत्नी कि प्राप्ति के लिए जातक को क्या जतन करनी चाहिए:-

ॐ द्रां द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्रय: नम:

  • जैसा कि हम जानते हैं कि मनचाहा जीवनसाथी कि प्राप्ति के लिए हमारी कुंडली में शुक्र ग्रह का मजबूत होना अवश्यक होता हैं| यदि जातक कि कुंडली में ऐसे योग ना हो,तो उसे दिये हुए मंत्र का नियमित १०८ माला जाप करनी चाहिए| ऐसा करने से कुंडली में शुक्र कि दशा सही होती हैं और जातक को सुंदर पत्नी कि प्राप्ति होती हैं|

सर्वबाधाप्रशमन: त्रैलोक्यालिलेश्वरी एवमेव त्वय: कार्यमस्मद्वैरिविनाशनम:-

  • अपने मन में बसाये हुए छवि कि तरह जीवनसंगिनी पाने के लिए पुरुषों को नवदुर्गा यंत्र कि पुजा करनी चाहिए| उपयुक्त मंत्र का ४० डीनो तक अनवरत पाठ करने से कुंडली में यदि यदि आरोही विषम है साथ हीचंद्रमा और मंगल भी विषम है तो इन ग्रहों कि स्थिति माँ दुर्गा कि कृपा से अनुकूल हो जाती हैं| इस मंत्र के प्रभाव से आपको सुंदर जीवनसंगिनी का साथ प्राप्त होता हैं|

कुंडली से स्त्री का चरित्र कैसे जाने

कुंडली से स्त्री का चरित्र कैसे जाने, ज्योतिषीय कुंडली के प्रत्येक स्थान पर प्रत्येक राशि की उपस्थिति और ग्रहों का महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। कुंडली के अध्ययन से हम किसी स्त्री का चरित्र कैसा होगा यह जान सकते हैं|आइए जानते हैं कुछ ग्रह स्थितियों, जो स्त्रीके अच्छे चरित्र के लिए जवाबदेह हैं: –

  • बृहस्पति की दृष्टि के अभाव में, यदि लग्न का स्वामी अपनी ही राशि में है, तो जीवनसाथी अच्छे चरित्र वाला होता है। उसे एक चरित्रवान पत्नी मिलती है।
  • यदि पुरुष की कुंडली में शुक्र अपनी ही राशि में बैठता है, तो उसे अच्छे चरित्र वाली पत्नी मिलती है। एक अन्य मामले में, यदि कुंडली के डी 9 चार्ट में शुक्र उच्च है, तो मूल निवासी को एक अच्छी पत्नी भी मिलती है।
  • यदि बुध अपने स्वयं के चिन्ह में आरोही में है और बृहस्पति उस पर अपनी दृष्टि डालते हैं, तो पत्नी निश्चित रूप से चरित्रवान होगी।यदि सप्तम भाव का स्वामी और स्वामी दोनों शुभ भाव में बैठे हैं, तो पति-पत्नी दोनों ही चरित्रवान होते हैं।
  • यदि बृहस्पति, शुक्र, चंद्रमा और बुध या तो पहले घर में हैं या कुंडली में आरोही के साथ हैं तो पत्नी अच्छे चरित्र की होगी।यदि लग्न का स्वामी और सप्तम भाव का स्वामी पुरुष ग्रहों से मुक्त हो तो पति-पत्नी दोनों चरित्रवान होते हैं।
  • यदि कुंडली के सप्तम भाव पर शुक्र की दृष्टि है, तो शायद पत्नी ईमानदार हो या नहीं, लेकिन वह हमेशा अपने पति को प्रिय रहेगी।

पत्नी से धन योग

पत्नी से धन योग, कहावत हैं यदि पत्नी सुलक्षणा हो,तो व्यक्ति के भाग्य बदल जाते हैं,उसे छप्पर फाड़ कर धन की प्राप्ति होती हैं| आइये हम जानते हैं कि ज्योतिषशास्त्र में ऐसे कौन से ग्रह योग होते हैं जिससे किसी व्यक्ति को अपने पत्नी के ग्रहो कि मजबूत स्थिति कि वजह से धन की प्राप्ति होती हैं|विवाह के बाद धन और भाग्य के लिए कुछ ज्योतिषीय संयोजन इस प्रकार से हैं:-

  • इस उद्देश्य के लिए प्रासंगिक कुंडली के दूसरे, सातवें और ग्यारहवें घर हैं जिनके बीच एक स्वतंत्र और शक्तिशाली संबंध, शादी के माध्यम से वित्तीय लाभ होने की अच्छी संभावनाएं प्रदान करता है।
  • कुंडली के सातवा घर जीवनसाथी से संबंधित है, और 7 वें घर में अच्छे संकेतों में रखे गए लाभकारी ग्रह, शादी के बाद संपूर्ण समृद्धि और खुशी लाते हैं।
  • लड़की के कुंडली का 8 वां घर जीवन साथी के कुंडली से भाग्य का सौदा करता है। यह एक साथी के कुंडली के प्रभाव के माध्यम से धन और भाग्य को इंगित करता है। 8 वें घर पर भगवान का इतना अच्छा स्थान होता हैं, जो सेवा या व्यवसाय में किसी साथी के ग्रहों के प्रभाव से धन और भाग्य लाता है।
  • लड़की के कुंडली में दूसरे, सातवें और ग्यारहवें घरों (या उनके स्वामी) के बीच संबंध उनकी क्षमता और परिचालन ग्रहों की अवधि के आधार पर विवाह के माध्यम से वित्तीय लाभ पैदा करने में सक्षम है।
  • इन घरों और उनके स्वामी के अध्ययन के अलावा, बृहस्पति और शुक्र की स्थिति शादी के बाद धन की प्राप्ति का संकेत देती है। आमतौर पर, पुरुषों के कुंडली में बृहस्पति का स्थान महत्वपूर्ण होता है और महिलाओं में शुक्र का स्थान महत्वपूर्ण होता है।

किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली बारह घरों का प्रतिनिधित्व करने वाली कुंडली होती है और प्रत्येक घर किसी व्यक्ति के जीवन के एक या अधिक पहलुओं का प्रतिनिधित्व करता है।

इन घरों में नौ ग्रहों की स्थिति एक व्यक्ति के जीवन में जीवनसाथी और भाग्य के पहलू को प्रमुखता से प्रकट करती है। अत: ज्योतिष कुंडली का अध्ययन से आपको होने वाली घटनाओ का एक संकेत मिल जाता हैं|

पति पत्नी में कलह निवारण ह