जल्दी शादी करने के उपाय

[Total: 8    Average: 4.6/5]

जल्दी शादी करने के उपाय

विवाह बाधा दूर करने के उपाय,  हिंदू धर्म के सोलह संस्कारों में से एक प्रमुख संस्कार “पाणीग्रहण” संस्कार है यानी “विवाह” संस्कार | लड़का हो या लड़की मां बाप अपनी संतान की शादी के लिए बहुत उत्सुक रहते हैं और अगर यह समय पर ना हो तो उन्हें चिंता  होने लगती है और वे परेशान हो उठते हैं | वे विवाह में देरी क्यों हो रही है इसका कारण ढूढ़ने लगते हैं और जल्दी विवाह कराने के लिए टोटके और ज्योतिष उपाय अपनाने की खोज करने लगते हैं | इसके अलावा लड़का या लड़की भी अपनी शादी के लिए उत्सुक रहते हैं और चाहते हैं कि समय पर उनकी शादी हो जाए | लेकिन रिश्ता होने में अगर देरी होने लगे तो वे भी अपने को असहज महसूस करने लगते हैं |

जल्दी शादी करने के उपाय
जल्दी शादी करने के उपाय

रिश्ता क्यों नहीं आ रहा ? शादी में क्यों देर हो रही है ?…ऐसे कई प्रश्न मां बाप या लड़के लड़कियों के दिमाग को परेशान करने लगते हैं | दरअसल विवाह में विलम्ब के कई कई कारण हो सकते हैं– कई बार जन्म कुंडली में दोष होता है या ग्रह अनुकूल नहीं  होते | पर, ऐसे में परेशान होने की या घबड़ाने की कोई जरूरत नहीं है | यहां पर हम शीघ्र विवाह के कुछ ज्योतिष उपाय और टोटके के साथ – साथ कुछ मंत्र भी आपको बताने जा रहे हैं जिसे आजमाने से निश्चय ही आजमाने वाला लाभान्वित होगा |

यह ज्योतिष उपाय, टोटके और मंत्र हैं —

१)  किसी की कुडंली में अगर मंगल का दोष हो तो चांदी का चौकोर टुकड़ा पास में रखने से मंगल का दोष दूर हो विवाह शीघ्र होने की संभावना बढ़ जाती है |

२) मांगलिक दोष दूर करने के लिए शनिवार को सुंदरकांड का पाठ और मंगलवार के दिन चंडिका स्त्रोत का पाठ करें यह एक आजमाया हुआ ज्योतिष उपाय है |

३) ज्योतिष शास्त्रों में बताए गए हैं ज्ञान के अनुसार अगर सूर्य की वजह से विवाह में विलंब हो रहा है तो विवाह योग्य लड़का \ लड़की को थोड़ा सा गुड़ खाकर उसके बाद पानी पीकर विवाह प्रस्ताव के लिए जाना चाहिए, साथ ही इनके माता को गुड़ खाना छोड़ देना चाहिए |

४) तांबे के चौकोर टुकड़े को भी जमीन में दबाने से सूर्य बाधा दूर होती महसूस की गई है | आर भी यह टोटका आजमाए |

५) शनि के कारण अगर शादी में विलंब हो रहा है तो हर शनिवार को बहते पानी में नारियल बहाएं |

६) हर शनिवार को शिवजी पर काला तिल चढ़ाने से भी शनि ग्रह की बाधा को दूर किया जा सकता है |

७) काले कपड़े में काला तेल, काला उड़द, लोहा, साबुन का दान भी शनि की बाधा को दूर करता है |

८) बृहस्पति या गुरु के कमजोर होने पर गुरुवार के दिन अनार के पौधे की पूजा तथा उसका फूल शिव जी को अर्पित करने से विवाह में आने वाली बाधा दूर होती है |

९) गुरूवार के दिन केले की जड़ पीले कपड़े में बांधकर ताबिज बनाकर धारण किया जा सकता है |

१०) बृहस्पतिवार की पूजा करें | इस दिन  पीपल, वट या केले के वृक्ष पर जल चढ़ाने से भी विवाह संबंधित बाधाएं दूर होती है |

इसके अलावा

११) शिव  पार्वती  का  पूजन  करें | इससे विवाह सम्बन्ध जल्द होने की सम्भावना बढ़ जाती है |

१२)  शुक्रवार को  रात्रि में सोते समय विवाह योग्य युवक युवती अपने सिरहान उबले हुए ८ छुआरे रखकर सो जाए और शनिवार प्रातः स्नान करने के बाद किसी भी बहते जल में प्रवाहित कर दें |

१३) विवाह की कामना से भगवान श्री गणेश को मालपुए का भोग लगाए (कन्या ) और पीले रंग की मिठाई का भोग लगाएं (युवक) |

१४)  विवाह योग्य व्यक्ति को गुरूवार को पीले रंग का और शुक्रवार को सफेद रंग का कोई भी एक कपड़ा अपने पास रखना चाहिए |

१५) प्रत्येक गुरुवार को नहाते समय एक चुटकी हल्दी नहाने वाले पानी में डालकर स्नान करना चाहिए |

१६) रोज रात को थोड़ा गुड़ के साथ रोटी  गाय को खिलाना चाहिए |

१७) पूर्णिमा को वट वृक्ष की १०८ परिक्रमा देने से विवाह संबंधित बाधाएं दूर होती है | १८) विवाह योग्य युवक-युवती के पलंग के नीचे लोहे का कबाड़ कभी नहीं रखना चाहिए |

१९) कहीं पर दुल्हन को मेहंदी लग रही हो तो अविवाहित कन्या के हाथ में दुल्हन से कुछ मेंहदी लगवाने से भी विवाह  सम्बन्धी बाधा दूर होती है |

२०) १२ सौ ग्राम चने की दाल के साथ सवा लीटर कच्चा दूध हर सोमवार को दान करें जब तक की विवाह ना हो जाए |

२१) विवाह वार्ता के लिए आए हुए अतिथियों को द्वार दिखाई ना दे इस पर विशेष ध्यान देते हुए उनका मुख घर के अंदर की ओर रहे उस पर ध्यान दें |

२२) कन्या प्रत्येक सोमवार को सुबह स्नानोपरांत शिवजी की पूजा कर शिवलिंग पर “ओम सुमेश्वराए नमः” का जाप करते हुए जल को चढ़ाए तो विवाह संभावना बनती नजर आती है |

२३)  शीघ्र विवाह के लिए लड़के को हर मंगलवार को हनुमान की पूजा कर उनके माथे से थोड़ा सा सिंदूर ले कर भगवान राम और सीता देवी के चरणों में अर्पित करें | २१ मंगलवार तक यह उपाय करने से निश्चित मनोकामना पूर्ण होगी |

२४) प्रतिदिन स्नान करने के बाद प्रातः काल मां दुर्गा की तस्वीर या मूर्ति की पूजा लाल फूलों से करें |

२५) थोड़ा सा दही लेकर उसे कपड़े बांध दें ताकि उसका सारा पानी निकल जाए | दो घंटा बाद इसकी एक गोली बनाए और इसके बीच में शहद, काला तील, चीनी डालकर फिर से इसकी गोली बनाए और रात १०.०० बजे के बाद शिवलिंग की अंतर से मालिश कर इसे चढ़ा दें और दीपक जलाएं |

२६) “ओम् गं गणपतये नमः” गणेश जी की पूजा कर २१ बार इस मंत्र का जाप करें हर रोज |

२७) “ॐ सृष्टिकर्ता मम् विवाह कुरु-कुरु स्वाहा” –लक्ष्मीनारायण या सीताराम की चित्र या प्रतिमा के सामने २१ मंगलवार तक इस मंत्र का २१ बार जाप करें |

२८)  एक और से ही सीकी हुई आठ मीठी रोटियां बना कर भूरे रंग के कुत्ते को

खिलाए |

२९) लगातार ९ मंगलवार व्रत रखें और देवी मां का पूजन कब उन्हें गुलाब का फूल चढ़ाएं और अंतिम मंगलवार को ९ बाल कन्याओं को लाल वस्त्र, मेहंदी देकर भोजन कराएं तथा यथाशक्ति दक्षिणा दे |

३०) लगातार ७ गुरुवार को हल्दी मिश्रित रोटी बनाकर उसे गुड़ के साथ गाय को खिलाए |